Stillness of the deep

In the lakeLaying placidLies buriedmeanings deep Calm on the surfaceLike a pretending mirrorReflecting the fakeHiding the truth beneath the inquisitive fingerScratches the surfaceIn a poke of inquiryPierces the flimsy sheath Ripples give awaythe illusionDistorting the unrealRevealing the truth we seek It’s not the blue skyOr the ochre of the woodsIt’s the flow of the waterAndContinue reading “Stillness of the deep”

Sky in the eye

The sky I must reachThe clouds I must pierceSun the scorcherlying beyond the cloudMust look him in the eye The moon and the starsHang on the domeKeeping the worldEncased withinMaintaining the semblance of the lie The dark spaceBeyond and in betweenFills every thingAnd still remains emptyBut seen with the closed eye I have traveled forContinue reading “Sky in the eye”

Who does it belong to (कौन है मालिक)

ड्रॉइंग रूम में सजी हर चीज़ जो किसी कारीगर की नायाब कारीगरी थी जिसे मजबूर हो कर बेचा गया था जो कभी दुकान के कोने में धूल से लथपथ अपने गले में अपनी क़ीमत लटकाए बेज़ुबान पड़े थे आज मेरे घर की रौनक़ है मोल दिया है अब वो सब मेरे हैं शायद ये एहसासContinue reading “Who does it belong to (कौन है मालिक)”

Aaj Vela hoon

आज अकेला हुंसुबह से वेला हूंदुनिया को बचानेअपने घर पे सोयेला हूं भ्रमण कर आजघर वापस आया हूंकश्मीर से कन्याकुमारी का सफरवास्तव में कर आया हूं इंसान को ६ फीट दूर से देखा तोथोड़ा डरा हुआ पाया हैहर आंखों में शक और कौफ का साया भरपूर नजर आया है इस नासूर वायरसका वास्ता है डरContinue reading “Aaj Vela hoon”