Badlon ke Pare

बादलों के परे हूँ मैंशायदआसमान हूँ मैं ख़ुशियों की हवाओं मेंहै मेरी उड़ानफिर भी परेशान हूँ मैं अपने आप को ढूँढने निकला हूँअपने आप सेअनजान हूँ मैं फ़िज़ाओं में क़ैद हूँहाँ ख़ुदा नहीं हूँइंसान हूँ मैं

Nothing but you

Leave everythingthat is not youLeave no traces of youNot even few Scrape the edgesDown to the coreTill you are leftWith nothing more Shed the pretenceShed the prideRemove the nameleave the identity aside As we reachthe last crumbWe gnaw awaythe senses numb there in the stillnesswhen nothing is youWhat is leftIs nothing but you

Dhund Hai, Dhoop hai

धुँध हैकी धूप हैसाँझ हैकी रूप हैरूप हैतो ढल जाएगाख़्वाब हैतो फिर आएगामुझे मत उठानामुझे सोने दोमुझे मेरे ख़्वाबों मेंरहने दोधूप मेंधुँध में

Tum toh main hoon

क्यों चाहता हूँ तुमकोतुम तो मैं हूँ पाने की ख्वाहिश नहींतुम तो मैं हूँ खोने का ख़ौफ़ नहींतुम तो मैं हूँ क्या सुनना हैबस शोर हैशोर इतना गूंजाकी खामोशी हो गयी तुमसे मुलाक़ात जो हुईखुद से पहचान हो गयी

Dark Coffee

Fluid Pours outWarm and brewedFrom the potInto the expectant gobletWaiting impatientlyLike a tired mind Crystals of sweetBlend like magicInto the Juiceof dark bitter beandark brown fluidLooks pretty fine The aroma risesHarbinger of the tasteScales the chasmbetween the cup and lipOh that smelltriggers the mind The first siptastes like heavenCataputing me awayFrom the grimeI am pureContinue reading “Dark Coffee”