Fimple

I received a comment from a friend where she appreciated a poem and termed it ‘Fimple’ and beautiful. The error was unintentional and innocent, but it got me thinking, what this word would mean if it was a word. I wonder about the sound of it, the image of it and possibly the taste andContinue reading “Fimple”

Ek Aur Baar

एक शहर पुरानायादों से भरा हुआयादों की डोर खींच लायी हैएक बार और हर लम्हा याद आया हैवो मोड़, वो हँसीफिर वही रास्तेएक बार और कहीं निशान मिट गएकहीं अब भी सजावट हैकिसी ने पुकारा हैएक बार और एक खुश लम्हायहीं रह गया थामिल कर हँसे हैंएक बार और ईंटों की ढेरइमारत बनेगीफिर घर बसेगाएकContinue reading “Ek Aur Baar”