Silent windows

Ever seen lightsin the nightLittle windowsCurtained or otherwise Spilling lights,Telling talesInocent traitorsof secrets inside Telling allYet holding backHeld back byVaguest of ties Each one lostIn multitudes of lightsHiding, yet being a beaconOf another life Another lifeFull of sorrows and liesCelebrating a happy momentOr a momentous high Each one trappedWith losses and gainor with a dreadofContinue reading “Silent windows”

Badlon ke Pare

बादलों के परे हूँ मैंशायदआसमान हूँ मैं ख़ुशियों की हवाओं मेंहै मेरी उड़ानफिर भी परेशान हूँ मैं अपने आप को ढूँढने निकला हूँअपने आप सेअनजान हूँ मैं फ़िज़ाओं में क़ैद हूँहाँ ख़ुदा नहीं हूँइंसान हूँ मैं

Destination wherever (Manzil Kahan)

सुबह कीख़ामोश रास्तों पररोशनी की किरण हूँ में रात कीसोए हुए अंधेरों कीपहली सुबह हूँ मैं ख़्वाबों के अधूरे अल्फ़ाज़ों कीअनकही कहानी हूँ में सफ़र कीअनजान राहों काअकेला राही हूँ मैं मंज़िलों कीपहचान नहीं हैंशायद पहुँच गया हूँ मैं

Khamoshi

मैं ख़ामोश हूँमेरी चीख़ों को आवाज़ों कीज़रूरत नहीं ख़ामोश अल्फ़ाज़ों कोलफ़्ज़ों की बैसाखियों कीज़रूरत नहीं शब्दों में फ़रेब हैखामोशी में नहींबंद लबों कोक़समों कि ज़रूरत नहीं शब्दों में बनावट हैखामोशी में नहींदिल की गहराइयों मेंमन के बदलते मिज़ाज नहीं मैं ख़ामोश हूँमेरी सचाई कोकिसी मंज़ूरी की ज़रूरत नहीं

Riding free

She rides the horseA free spirited steedHooves galloping swiftWings flying wideSometimes on the groundon the lush green meadowSometimes in airOn the fluffy white cloudskicking up the grassAnd sometimes the cloudsBouncing manesAnd her flowing hairMatching their rhythmMatching the stridesThere is a songThat the wind singsShe hears the songShe sings that tooThere are no reinsThere is nowhereContinue reading “Riding free”

Wo mod hi nazar nahin aata

एक अंधेरा भी हैजो रोशन बहुत हैएक खामोशी हैजो कहानी कहे जा रही है मेरे साथ मेरा साया थारात हुई तो खो गया है शायदकल सुबह सुबह मिलेंगे उससेअभी अकेले चल पड़ा हूँ साथ साथ अंधेरा भी चल पड़ा हैऔर वो बातूनी खामोशी भीपूछे बिग़ैर अपने अकेले क़ाफ़िले मेंशामिल हो गया है बातों बातों मेंवक्तContinue reading “Wo mod hi nazar nahin aata”

Make a note on the blue skies

Pen touches the paperEvery night as I sleepmemoirs of the dayEtched on paperForever as theInk dries I am the makerI am the madeWhy make it sadWhen happy it can beFoolish is the onewho cries Every moment reframedThe way I wantedAll sad ones made happyEvery defeat turned to victorySome truths aremade of lies For the scriptContinue reading “Make a note on the blue skies”