Badlon ke Pare

बादलों के परे हूँ मैंशायदआसमान हूँ मैं ख़ुशियों की हवाओं मेंहै मेरी उड़ानफिर भी परेशान हूँ मैं अपने आप को ढूँढने निकला हूँअपने आप सेअनजान हूँ मैं फ़िज़ाओं में क़ैद हूँहाँ ख़ुदा नहीं हूँइंसान हूँ मैं

My heart needs a bath

I need a bathSoap and frothSpray of waterA scrub and wash Body wearyFull of grimeHeart ladenWith hate and crime Some I likeOthers I hateCage of destinyBind of fate Happy momentsBrings a smileSad ones followAfter a short while Full of anguishString of regretsMissed opportunitiesAnd some lost bets I carry the burdenMemories from the startFurrows on theContinue reading “My heart needs a bath”